पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए शानदार फैसला, यात्रा के दौरान हुआ कोरोना तो मिलेंगे 3000 डॉलर

0 10

ताशकंद। भारत समेत पूरी दुनिया में कोरोना वायरस के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं। जिसके चलते दुनिया के सभी देश इस संक्रमण को रोकने के लिए अपने-अपने स्तर पर प्रयास करने में जुटे हैं। इसी बीच उजबेकिस्तान की सरकार ने एक शानदार फैसला लिया है। दरअसल उजबेकिस्तान ने लॉकडाउन के बाद देश में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए एक अनोखा नुस्खा अपनाया है।

दरअसल उजबेकिस्तान सरकार ने घोषणा की है कि अगर किसी विदेशी पर्यटक को उनके देश में पर्यटन के दौरान कोरोना वायरस का संक्रमण होता है, तो ऐसे में उजबेकिस्तान सरकार उस शख्स को 3000 डॉलर देगी। आपको बता दें कि उजबेकिस्तान में सुरक्षित यात्रा गारंटी अभियान की शुरुआत की गई है, जिसके चलते उजबेकिस्तान की सरकार ने विदेशी पर्यटकों को आकर्षित करने के लिए यह फैसला किया है।

यह भी पढ़ें : अंडमान और निकोबार में भूकंप के झटके, रिक्टर पैमाने पर 4.1 तीव्रता

सरकार का कहना है कि अगर कोई भी यात्री इस देश में यात्रा के दौरान बीमार पड़ता है, तो उसका चिकित्सा खर्च उजबेकिस्तान सरकार उठाएगी। सूत्रों के मुताबिक यह फैसला खुद उजबेकिस्तान के राष्ट्रपति शवकात मिर्जीयोयेव ने लिया है। उन्होंने कहा है कि वह अपने यहां आने वाले यात्रियों के स्वास्थ्य का पूरा ख्याल रखेंगे और अगर कोई कोरोना वायरस से संक्रमित होता है, तो उसका चिकित्सा खर्च सरकार उठाएगी।

आपको बता दें कि उजबेकिस्तान की आबादी 3 करोड़ 30 लाख है। उजबेकिस्तान के इंग्लैंड में पर्यटन दूत सोफी इबोटसन ने कहा है कि हम उजबेकिस्तान आने वाले पर्यटकों को इस बारे में आश्वस्त करना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार इस बात से आश्वस्त और भरोसेमंद है कि नए सुरक्षा और साफ-सफाई के मानक जो पूरे देश के पर्यटन क्षेत्र में लागू किए गए हैं और यही वजह है कि राष्ट्रपति ने कोविड-19 को लेकर जो कहा है, उसके लिए वह पैसे देने को तैयार हैं। अगर कोई भी शख्स यहां छुट्टियां बिताने के दौरान कोरोना संक्रमित होता है, तो उसके इलाज का पूरा खर्च सरकार उठाएगी।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments
Loading...